सोमवार, 8 जून 2020

आदिपुर(कच्छ) में मौजुद है कुदरत का करिशमा।



















गांघीघाम कच्छ:कुदरत भी निराली है ,कहीं अजुबे तो कहीं करिशमे के रुप में अपनी मोजुदगी का ऐहसास कराती रहती है।पर  छोटी सोच वाला इन्सान क्या और कितना कुदरत को समज पायेगा???कुदरत तो हर जगह सांस,जल वायु,पुथ्वी में मौजुद है।जब इन्सान कुदरत को नहीं समज पाता तब कुदरत इन्सानों के बीच में ही इन्सानी आकरुति में करिशमा दिखाता है।ऐसी ही धटना जो कुदरत के करिशमो का जींदा सबूत हैं आदिपुर कच्छ की रहने वाली करिशमा मानी जी






  जो के ऐंकरिंग,मोडेलिंग,अदाकारी,पत्रकारित्व की ऱुचि रखती हैं।करिशमा मानी जी की दोनो आंखे अलग अलग कलर की हैं।ऐक आंख ब्लेककीश ब्राउन और दुसरी हैजल कलर की हैं।करिशमा जी की मम्मी की आंखें बले्ककीश ब्राउन कलर की हैं, और इनके पापा की आंखें हैजल कलर की हैं, मतलब करिशमा मानी जी के अंदर मां और बाप दोनों के गुण समाये हुये हैं।बहोत कम ऐसे नशीब वाले लोग होते हैं जो मां और बाप दोनों के गुण लिये पेदा होते हों।दोनो आंखों के अलग अलग रंग की वजह से मानी जी को बहोत सारे ऐवोर्ड,प्रशंसापत्र,सन्मान, वल्डँ रेकोर्ड के साथ मिले हुये हैं।








करिशमा मानी जी को कुदरत का करिशमा कहना गलत नहीं होगा और नेचर से पोजीटिव,  मिलनसार और दयालु भी हैं।



यह गुन भी कुदरत के दिये हुये गीफट होते हैं।ऩशीब वाली हैं करिशमा जी जो कुदरत की गिफ्ट के रुप में हमारे बीच में मौजुद हैं।


कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

टीपणी लीखें

पुरव कच्छ पुलिस जवानो पर ननामी अरजी के आघार पर शिक्सात्मक ऐकशन ??

पुरव कचछ पुलिस के तीन जमादारों पर ननामी अरजी के आघार पर शिक्सात्मक ऐकश्न ले कर जिल्ला बहार बदली करना यह ऐक आशचरय लगे ऐसी धटना है। ननामी अरजी...